वह : रविन्द्र नाथ टैगोर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Vah : by Ravindra Nath Tagore Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

वह : रविन्द्र नाथ टैगोर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Vah : by Ravindra Nath Tagore Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वह / Vah
Author
Category, , , ,
Language
Pages 148
Quality Good
Size 4.16 MB

पुस्तक का विवरण : बहुत दिनों से जल्द यह कहकर आरम्भ किये गये हैं कि (एक राजा था ।? मैंने आरम्भ किया कि एक मनुष्य हे ! इसके सिवा लोग जिसे गहप कहते हैं उसकी आँच तक इसमें नहीं है | वह ऐसा मनुष्य है कि घोड़े पर सवार होकर मैदान पार कर नहीं चला गया। वह एक दिन रात के दस बज जाने के बाद मेरे घर आया। मैं किताब……..

Pustak Ka Vivaran : Bahut dinon se jald yah kahakar Aarambh kiye gaye hain ki (Ek Raja tha .? Mainne Aarambh kiya ki ek manushy hai ! Isake siva log jise gahap kahate hain usaki aanch tak isamen nahin hai. Vah aisa manushy hai ki ghode par savar hokar maidan par kar nahin chala gaya. Vah ek din rat ke das baj jane ke bad mere ghar aaya. Main kitab……….

Description about eBook : It has been started for a long time, saying that (there was a king.? I started that there is a man! Except this, what people call Gahap is not in the heat of it. He is such a man that he rides a horse across the field. Tax is not gone. He came to my house one night after ten o’clock. I book………..

“भाग्य अवसर और तैयारी के मिलन की बात है।” ‐ ओपरा विनफ्री, अमरीकी अभिनेत्री
“Luck is a matter of preparation meeting opportunity.” ‐ Oprah Winfrey, American Actress

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment