तुलसी प्रज्ञा – अनुसंधान त्रैमासिकी : परमेश्वर सोलंकी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Tulsi Pragya – Anusandhan Traimasiki : by Parmeshvar Solanki Hindi PDF Book – Social (Samajik)

तुलसी प्रज्ञा - अनुसंधान त्रैमासिकी : परमेश्वर सोलंकी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Tulsi Pragya - Anusandhan Traimasiki : by Parmeshvar Solanki Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name तुलसी प्रज्ञा - अनुसंधान त्रैमासिकी / Tulsi Pragya - Anusandhan Traimasiki
Author
Category,
Language
Pages 211
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

तुलसी प्रज्ञा – अनुसंधान त्रैमासिकी का संछिप्त विवरण : अपनी प्रज्ञा और विवेक के कारण मनुष्य निर्विवादित प्रकृति की सर्वोकृष्ट रचना है और पर्यावरण का चौधरी होने के नाते हर अच्छे – बुरे का जिम्मा भी उसी का है। जैविक रूप से भी प्रकृति का अटूट अग होने के कारण………

Tulsi Pragya – Anusandhan Traimasiki PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Apni pragya aur vivek ke karan manushy nirvivadit prakrti ki Sarvokrsht rachana hai aur paryavaran ka chaudhari hone ke nate har achchhe – bure ka jimma bhee usi ka hai. Jaivik roop se bhi prakrti ka atoot ag hone ke karan………
Short Description of Tulsi Pragya – Anusandhan Traimasiki PDF Book : Due to his wisdom and discretion, man is the quintessential creation of the undisputed nature and being the chaudhary of the environment, he is also responsible for every good and bad. Biologically also due to the inexhaustible fire of nature…….
“जब तक आप आंतरिक रूप से शांति नहीं खोज पाते तो इसे अन्यत्र खोजने से कोई लाभ नहीं है।” एल. ए. रोशेफोलिकाउल्ड
“When a man finds no peace within himself, it is useless to seek it elsewhere.” L. A. Rouchefolicauld

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment