तुलसीदास का मुकदमा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Tulsidas Ka Mukdama : Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameतुलसीदास का मुकदमा / Tulsidas Ka Mukdama
Category, , , ,
Language
Pages 122
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : दोपहर का समय है। खूब तेज सर्दी पड़ रही है परन्तु धूप तेज होने के कारण शीत अधिक कष्ट नहीं देती थी । बढ़ा सुहावना समय है। इसी समय में भगवान रामचन्द्र आकाश मार्ग से अपने घोड़ों पर सवार देवलोक को चले जा रहे हैं । आज शाम तक ही वहाँ पहुँचना है । कल ही अदालत में हाजिरी है इसी उधेड़ बुन में सभी हैं | सामने देखा कि भगवान शंकर…….

Pustak Ka Vivaran : Dophar ka samay hai. khoob tej sardi pad rahi hai parantu dhoop tej hone ke karan sheet adhik kasht nahin deti thee . Badha Suhavana samay hai. Isi samay mein bhagvan Ramchandra Akash marg se apane Ghodon par savar devlok ko chale ja rahe hain . Aaj sham tak hi vahan pahunchana hai . Kal hi Adalat mein haziri hai isi udhed bun mein sabhi hain . Samane dekha ki bhagvan shankar………

Description about eBook : It was afternoon. It is a very cold winter but due to the intense sun, the cold did not cause much trouble. It is a very pleasant time. At the same time, Lord Ramchandra is going from heaven to Devlok riding on his horses. We have to reach there by this evening only. All are present in the court tomorrow itself. Lord Shankar was seen in front ………

“जो व्यक्ति व्यायाम के लिए समय नहीं निकालते उन्हें बीमारी के लिए समय निकालना पड़ता है।” अर्ल ऑफ डर्बी
“Those who do not find time for exercise will have to find time for illness.” Earl of Derby

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment