उसने कहा : खलील जिब्रान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Usne Kaha : by Khalil Gibran Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

उसने कहा : खलील जिब्रान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Usne Kaha : by Khalil Gibran Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name उसने कहा / Usne Kaha
Author
Category, , , ,
Language
Pages 84
Quality Good
Size 627 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कवि विज्ञान की समस्त पुस्तकें उनके स्वयं बनाये हुए चित्रों से विभुवित है। इन चित्रों का प्रबलन संसार के सभी वैद्यों के मुख्य नगरों में हो चुका है। उनकी तुलना अमरीका के महान कलाकार अगस्त रोडिन एवं विलियम से की जाती है। एक बार स्वयं अगस्त रोडिन न कवि विद्वान से अपना चित्र बनवाने की इच्छा…………

Pustak Ka Vivaran : Kavi Vigyan ki Samast Pustaken unake svayan banaye huye chitron se vibhuvit hai. In Chitron ka prabalan sansar ke sabhi vaidyon ke mukhy Nagaron mein ho chuka hai. Unaki Tulana Amarica ke Mahan kalakar Agust Rodin evan William se ki jati hai. Ek bar svayan Agust Roddin na kavi vidvan se Apana chitra banavane ki ichchha………….

Description about eBook : All books of poet science are distinguished by his own drawings. These paintings have been reinforced in the main cities of all the Vaidyas of the world. They are compared to the great artists of America, August Rodin and William. Once August Rodin himself wishes to get his portrait made from the poet scholar …………

“हमारे कई सपने शुरू में असंभव लगते हैं, फिर असंभाव्य, और फिर, जब हममें संकल्पशक्ति आती है तो ये सपने अवश्यंभावी हो जाते हैं।” क्रिस्टोफर रीव
“So many of our dreams at first seem impossible, then seem improbable, and then, when we summon the will, they soon seem inevitable.” Christopher Reeve

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment