मैं खलील जिब्रान बोल रहा हूँ : महेश शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Main Khalil Gibran Bol Raha Hun : by Mahesh Sharma Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

Book Nameमैं खलील जिब्रान बोल रहा हूँ / Main Khalil Gibran Bol Raha Hun
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 60
Quality Good
Size 653 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सन्‌ 1891 में जिब्रान के पिता को एक गबन के मामले में उनकी सारी चल-अचल संपत्ति जब्त करके जेल में डाल दिया गया। इस वाकये से परिवार की जिंदगी में एकाएक तूफान आ गया। गाँव भर में बदनामी हुई सो अलग। आर्थिक बदहाली और भुखमरी से त्रस्त कामिला ने तब अपने पूर्व पति के बेटे बुतरस पीटर के पास अमेरिका जाने का फैसला किया……..

Pustak Ka Vivaran : San 1891 Mein Gibran ke Pita ko Ek Gaban ke Mamale mein unki Sari Chal-Achal Sampatti jabt karke Jail mein dal diya gaya. Is Vakaye se Parivar ki Zindagi mein Ekaek toophan aa gaya. Ganv bhar mein Badnami huyi so alag. Aarthik Badhali aur Bhukhmari se trast kamila ne tab apne poorv Pati ke bete butaras Peter ke pas America jane……

Description about eBook : In 1891, Gibran’s father was imprisoned after confiscating all his movable and immovable property in an embezzlement case. Due to this incident, there was a sudden storm in the life of the family. There was a bad name in the whole village. Suffering from financial distress and starvation, Kamila then decided to move to America to visit her ex-husband’s son Boutros Peter……..

“जब तक उम्मीद की जगह अफ़सोस नहीं ले लेता, तब तक इंसान वृद्ध नहीं होता।” ‐ जॉन बैरिमोर
“A man is not old until regrets take the place of dreams.” ‐ John Barrymore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment