आँख की किरकिरी : रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Aankh Ki Kirkiri : by Ravindra Nath Thakur Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameआँख की किरकिरी / Aankh Ki Kirkiri
Author
Category,
Language
Pages 289
Quality Good
Size 19.8 MB

पुस्तक का विवरण : मेरे साहित्य की पथ-यात्रा का पूर्वा पर अनुसरण करने से यह बात तुरंत पकडाई दे जायेगी कि आँख की किरकिरी’ उपन्यास आकस्मिक है, केवल मेरे अन्दर ही नही, उस दिन के बगला साहित्य-क्षेत्र मे भी। बाहर से कौन-सा इशारा आया था मेरे मन मे, यह प्रश्न दुरूह है। सबसे सहज जवाब यह है कि धारावाहिक लम्बी कहानियों की माँग मासिक पत्रो की हमेशा की भूख थी और उस भूख की पूर्ति के लिए…….

Pustak Ka Vivaran : Mere Sahity ki path-yatra ka poorva par anusaran karne se yah bat turant pakadayi de jayegi ki aankh ki kirkiri upanyas Aakasmik hai, keval mere andar hi nahi, us din ke bagala sahity-kshetra me bhi. bahar se kaun-sa ishara aaya tha mere man me, Yah prashn durooh hai. Sabase sahaj javab yah hai ki dharavahik lambi kahaniyon ki mang masik patro ki hamesha ki bhookh thi aur us bhookh ki poorti ke liye…….

Description about eBook : By following the path-travel of my literature on Purva, it will be immediately apparent that the novel ‘Aankh ki Kirkiri’ is accidental, not only within me, but also in the literary field of that day. Which signal came from outside in my mind, this question is difficult. The most intuitive answer is that the demand for serial long stories was an everlasting hunger for monthly papers and to fulfill that hunger…..

“परस्पर आदान-प्रदान के बिना समाज में जीवन का निर्वाह संभव नहीं है।” ‐ सेमुअल जॉन्सन
“Life cannot subsist in a society but by reciprocal concessions.” ‐ Samuel Johnson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment