वीरपूजा : हरनाथ वसुफी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Veerpuja : by Harnath Vasufi Hindi PDF Book – Drama (Natak)

वीरपूजा : हरनाथ वसुफी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Veerpuja : by Harnath Vasufi Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वीरपूजा / Veerpuja
Author
Category, , , ,
Language
Pages 168
Quality Good
Size 3.3 MB
Download Status Available

वीरपूजा का संछिप्त विवरण : रंगनाथ – क्या करूँ ? राज्य की लालसा छोड़कर लक्ष्मी की खोज में निकल, क्या ? या यह क्यों करू – वह मेरी कौन है ? उसे में त्यागकर चुका हूँ । उसका चेहरा तक मुझे याद नहीं है। मेरी ही याद क्या उसे बनी होगी ? असम्भव है। अब उसके लिये ममता मोह क्या ? उसके लिये अब मेरी ज़िम्मेदारी क्या ? वह हिन्दू की लड़की है ? शायद अपने धर्म को आप बचा सकेगी । मुझे राज्य चाहिये…..

Veerpuja PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Rangnath – kya karoon ? Rajy ki lalasa chhodkar lakshmi ki khoj mein nikal, kya ? Ya yah k‍yon karu – vah meri kaun hai ? Use mein tyagkar chuka hoon . Uska chehara tak mujhe yad nahin hai. Meri hi yad kya use bani hogi ? Asambhav hai. Ab uske liye mamata moh kya ? Uske liye ab meri zimmedari kya ? Vah hindu ki ladki hai ? shayad apane dharm ko aap bacha sakegi . mujhe Rajy chahiye……..
Short Description of Veerpuja PDF Book : Ranganath – What should I do? Leaving the lust of the kingdom and set out in search of Lakshmi, what? Or why do this – who is she to me? I have given up on him. I don’t even remember his face. Will it be my memory? Impossible. Now what is the love for her? What is my responsibility for that now? Is she a Hindu girl? Maybe you can save your religion. I want state……..
“सम्मान रहित सफलता नमक रहित भोजन की तरह होती है; इससे आपकी भूख तो मिट जाएगी, लेकिन यह स्वादिष्ट नहीं लगेगी।” ‐ जो पैटेर्नो
“Success without honor is an unseasoned dish; it will satisfy your hunger, but it won’t taste good.” ‐ Joe Paterno

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment