विद्रोही : रईस अहमद जाफ़री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Vidrohi : by Reis Ahmed Jafari Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

विद्रोही : रईस अहमद जाफ़री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Vidrohi : by Reis Ahmed Jafari Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विद्रोही / Vidrohi
Author
Category, , , ,
Language
Pages 270
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अब ससुराल में वह घबराती थी। घर उसे काटने को दौड़ता था। हर वस्तु उस पर हंसती हुई, उसका मजाक उड़ती हुई, उस पर व्यंग करती हुई दीख पड़ती थी। वह तो घर की नौकरानियों और मामाओं का सामना करने से भी घबराती थी। वह घर के बच्चों और लड़कों तक से बात करने में झिझकती थी। वह सास को अपना मुख ही नहीं दिखाती थी। वह पति के सामने ……

Pustak Ka Vivaran : Ab Sasural mein vah Ghabrati thi. Ghar use katane ko daudata tha. Har vastu us par hansati huyi, uska majak udti huyi, us par vyang karti huyi deekh padti thee. Vah to ghar ki Naukaraniyon aur mamaon ka samana karane se bhi Ghabrati thi. Vah ghar ke bachchon aur ladakon tak se bat karane mein Jhijhakati thi. Vah sas ko apana mukh hi nahin dikhati thi. Vah pati ke samane ……..

Description about eBook : Now she used to panic in the in-laws’ house. The house used to run to bite him. Everything seemed to be laughing at him, making fun of him, making fun of him. She was too scared to face the house maids and maternal uncles. She was hesitant to even talk to the children and boys of the house. She did not even show her face to the mother-in-law. In front of her husband………

“उस व्यक्ति के लिए सभी परिस्थितियां अच्छी हैं जो अपने भीतर खुशी संजो कर रखता है।” ‐ होरेस फ्रिस्स
“All seasons are beautiful for the person who carries happiness within.” ‐ Horace Friess

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment