वैद्युत आवेश तथा क्षेत्र : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – विज्ञान | Vidyut Aavesh Tatha Kshetra : Hindi PDF Book – Science (Vigyan)

वैद्युत आवेश तथा क्षेत्र : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - विज्ञान | Vidyut Aavesh Tatha Kshetra : Hindi PDF Book - Science (Vigyan)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वैद्युत आवेश तथा क्षेत्र / Vidyut Aavesh Tatha Kshetra
Author
Category, , ,
Language
Pages 50
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इस प्रकार, रगड़ने के पश्चात वस्तुओं द्वारा अर्जित आवेश आवेशित वस्तुओं को एक-दूसरे के संपर्क में लाने पर लुप्त हो जाता है। इन प्रेक्षणों से आप क्या निष्कर्ष निकाल सकते हैं? यह तो केवल इतना बताता है कि वस्तुओं द्वारा अर्जित विजातीय आवेश एक-दूसरे के प्रभाव को निष्फल कर देते हैं। इसीलिए अमेरिकी वैज्ञानिक बेंजामिन फ्रेंकलिन ने आवेशों को………

Pustak Ka Vivaran : Is Prakar, Ragadane ke pashchat vastuon dvara Arjit Aavesh Aaveshit vastuon ko ek-doosare ke sampark mein lane par lupt ho jata hai. In Prekshanon se aap kya nishkarsh nikal sakate hain? Yah to keval itana batata hai ki vastuon dvara arjit vijatiy Aavesh ek-doosare ke prabhav ko Nishphal kar dete hain. Isiliye Ameriki vaigyanik Benjamin Franklin ne Aaveshon ko…….

Description about eBook : Thus, the charge acquired by the objects after rubbing vanishes when the charged objects come in contact with each other. What can you conclude from these observations? It only states that the foreign charges acquired by the objects nullify each other’s effect. That’s why the American scientist Benjamin Franklin called charges……

“हम में से कई लोग अपने सपनों को नहीं बल्कि अपने डर को जी रहे हैं।” ले ब्राउन
“Too many of us are not living our dreams because we are living our fears.” Les Brown

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment