व्यापारी का बेटा : मैक्सिम गोर्की द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Vyapari Ka Beta : by Maxim Gorki Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameव्यापारी का बेटा / Vyapari Ka Beta
Author
Category, , , ,
Language
Pages 416
Quality Good
Size 26 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इसके बाद परिवार नाश्ते के लिए बैठ जाता, जिसमे चाय-पान होता और बन, केक और मांस के पकोड़ों की बहुत बड़ी मात्रा ख़तम की जाती। नाश्ते के बाद, गर्मियों के दिनों में, बच्चे उस पत्तों वाले बगीचे में चले जाते, जो एक तेज ढलान के पास ख़त्म होता था। इसमें से एक प्रकार की डरावनी भाप सी निकलती थी। बच्चों को इसके पास जाने की मनाही………

Pustak Ka Vivaran : Isake Bad Parivar Nashte ke liye baith jata, Jisame chay-pan hota aur ban, kekaur Mans ke Pakodon kee bahut badi Matra khatam kee Jati. Nashte ke bad, Garmiyon ke dinon mein, Bachche us Patton vale Bageeche mein chale jate, jo ek tej dhalan ke pas khatm hota tha. Isamen se ek prakar kee daravani bhap see Nikalati thee. Bachchon ko isake pas jane kee Manahi thee………

Description about eBook : After this, the family would sit down for breakfast, in which tea was served and bananas, cakes and meat pakoras were consumed in large quantities. After breakfast, during the summer, the children would move to the leafy garden, which would end near a steep slope. There was a kind of scary steam coming out of it. The children were not allowed to go near it ………

“एक सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में साहस का या फिर ज्ञान का अंतर नहीं होता है बल्कि यदि अंतर होता है तो वह इच्छाशक्ति का होता है।” ‐ विसेंट जे. लोम्बार्डी
“The difference between a successful person and others is not a lack of strength, not a lack of knowledge, but rather in a lack of will.” ‐ Vincent J. Lombardi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment