दुश्मन : मक्सिम गोर्की द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Dushman : by Maxim Gorki Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameदुश्मन / Dushman
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 131
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

दुश्मन का संछिप्त विवरण : अगर उन लोगों ने खीरे इसलिए चुराए की वो भूखे थे , तब तो मैं उन्हें माफ़ कर सकती है। यह कहना भी गलत न होगा कि बहुत सी नीचताओं की जड़ में, बहुत से जुर्मों की तह में यही पेट की आग होती है। बहुत सी नीचताओं की जड़ में, बहुत से जुर्मो की तह में यही है। इंसान जब भूखा है , तब तो खैर। कोन: तुम भूख की बात कर रहे हो, मगर देवता लोग तो इस मुसीबत से आज़ाद ……..

Dushman PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Agar un logon ne kheere isaliye churaye kee vo bhookhe the , tab to main unhen maf kar sakatee hai. Yah kahana bhee galat na hoga ki bahut see Neechataon kee jad mein, bahut se jurmon kee tah mein yahi pet kee aag hoti hai. Bahut see neechataon kee jad mein, bahut se jurmo kee tah mein yahi hai. Insan jab bhookha hai , tab to khair. kon: tum bhookh kee bat kar rahe ho, magar devata log to is musibat se Aazad.…………
Short Description of Dushman PDF Book : If those people stole cucumbers because they were hungry, then I can forgive them. It would not be wrong to say that at the root of many inferiorities, in the bottom of many crimes, this is the stomach fire. It is at the root of many inferiorities, at the bottom of many crimes. When a person is hungry, then anyway. Con: You are talking about hunger, but gods are free from this trouble………
“आप अपने जीवन काल के लिए कुछ नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप इसे मूल्यवान बनाने के लिए कुछ अवश्य ही कर सकते हैं।” इवान ईसार
“You can’t do anything about the length of your life, but you can do something about its width and depth.” Evan Esar

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment