टानिया : मैक्सिम गॉर्की द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Tania : by Maxim Gorki Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

टानिया : मैक्सिम गॉर्की द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Tania : by Maxim Gorki Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name टानिया / Tania
Author
Category, , , ,
Language
Pages 198
Quality Good
Size 3.76 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कभी-कभी हममें से कोई इस प्रकार का तक करने लगता “हम ऐसी दुश्चरित्रा का इतना सत्कार क्यों करते हैं ? उसमें धरा ही क्या है ? भला ! उसके बारे में हम लोग इतना गुलनापाड़ा क्यों मचाते रहते हैं ? जो व्यक्ति इस प्रकार की बातें कहने का साहस करता, हम जान-बूझकर बहुत बुरी तरह से उसकी बात काट देते। हमें प्यार करने के लिये किसी की आवश्यकता थी, वह वस्तु हमें…….

Pustak Ka Vivaran : Kabhi-kabhi hamamen se koi is prakar ka tak karane lagata “Ham aise dushcharitra ka itana satkar kyon karate hain ? Usamen dhara hi kya hai ? Bhala ! Usake bare mein ham log itana Gulanapada kyon machate rahate hain ? Jo vyakti is prakar ki baten kahane ka sahas karata, ham jan-boojhakar bahut buri tarah se usaki bat kat dete. hamen pyar karane ke liye kisi ki Avashyakata thi, vah vastu hamen……..

Description about eBook : Sometimes one of us even starts doing this kind of thing, “Why do we treat such evil people so much?” What is there? Okey! Why do we keep making such a gnarpada about him? The person who dared to say these kinds of things, we would have deliberately cut his words very badly. We needed someone to love us, that thing…….

“मैंने दार्शनिकता से सीखा है कि मैं वह सब कुछ बिना आदेश के करता हूं जो आम लोग कानून के डर से करते हैं।” ‐ अरस्तू
“I have gained this by philosophy: that I do without being commanded what others do only from fear of the law.” ‐ Aristotle

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment