ययाति : विष्णु सखाराम खाण्डेकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Yayati : by Vishnu Sakharam Khandekar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameययाति / Yayati
Author
Category, ,
Language
Pages 357
Quality Good
Size 6.9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मनुष्य के लिए जैसे शरीर है वैसे ही आत्मा भी है। दैनिक जीवन में जब इन दोनों न्यूनतम भूख मिट सकेगी तथा जीवन में संतुलन बना रह सकेगा। हजार हाथों से भौतिक समृद्धि उछालते, बिखरते आने वाले यात्रयुग में इस संतुलन को बनाए रखना हो तो व्यक्ति……

Pustak Ka Vivaran : Manushy ke liye jaise shareer hai vaise hee aatma bhee hai. Dainik jeevan mein jab in donon Nyunatam bhookh mit sakegi tatha jeevan mein santulan bana rah sakega. Hajar hathon se bhautik samrddhi uchhalate, bikharate aane vale yatrayug mein is santulan ko banaye rakhana ho to vyakti………….

Description about eBook : There is a soul similar to that of a human body. In daily life, when both of them can erase minimum hunger and balance in life. If you have to maintain this balance in the coming yatra, shaking physical prosperity with thousands of hands, then the person…………..

“स्वत्व (आत्म तत्व) कोई बनी बनाई वस्तु नहीं होती है, कर्म के चयन के परिणाम स्वरूप इसका निरन्तर निर्माण करना पड़ता है।” ‐ जॉन ड्यूई
“The self is not something ready-made but something in continuous formation through choice of action.” ‐ John Dewey

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment