आजकल : चन्द्रगुप्त विद्यालंकार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Aaj Kal : by Chandragupt Vidyalankar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

आजकल : चन्द्रगुप्त विद्यालंकार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Aaj Kal : by Chandragupt Vidyalankar Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आजकल / Aaj Kal
Author
Category, ,
Language
Pages 130
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बहुत शीघ्र इन देशों में साम्राज्य लिप्सा बहुत प्रबल हो गई। ये देश अपना राजनीतिक प्रभुत्व बढ़ाने के लिए युद्ध की तैयारियों में लग गए। राष्ट्र की आय का अधिकांश भाग सैनिक कार्यों पर खर्च किया जाने लगा और देश भर के नवयुवकों के लिए सैनिकों शिक्षा लेना अनिवार्य कर दिया गया। फासिस्ट इटली और नाजी जर्मनी की कार्रवाइयों से संसार का वातावरण बहुत…….

Pustak Ka Vivaran : Bahut Sheeghra in Deshon mein samrajy lipsa bahut prabal ho gayi. Ye desh apana Rajneetik prabhutv badhane ke liye yuddh kee taiyariyon mein lag gaye. Rashtra kee aay ka adhikansh bhag sainik karyon par kharch kiya jane laga aur desh bhar ke navayuvakon ke liye sainikon shiksha lena anivary kar diya gaya. Fasist Itali aur naji Zarmany kee karravaiyon se sansar ka vatavaran bahut…………

Description about eBook : Very soon the empire Lipsa became very strong in these countries. These countries started preparing for war to increase their political dominance. Majority of the nation’s income was spent on military operations and it was made compulsory for youths from all over the country to take military education. The actions of Fascist Italy and Nazi Germany greatly changed the atmosphere of the world…………

“कर्म के बिना दूरदर्शिता एक दिवास्वप्न है। दूरदर्शिता के बिना कर्म दुःस्वप्न है।” ‐ जापानी कहावत
“Vision without action is a daydream. Action without vision is a nightmare.” ‐ Japanese proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment