अंतरिक्ष युग में संचार : यूनेस्को द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Antariksha Yug Me Sanchar : by Unesco Hindi PDF Book – Social (Samajik)

अंतरिक्ष युग में संचार : यूनेस्को द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Antariksha Yug Me Sanchar : by Unesco Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अंतरिक्ष युग में संचार / Antariksha Yug Me Sanchar
Category, , , ,
Language
Pages 290
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मानव संसार के एक युग का आविर्भाव सन १९६२ में हुआ जबकि पहली बार ब्रह्मा अंतरिक्ष के कृतिम उपग्रहों द्वारा महाद्वीपों के बीच प्रेस प्रचार, समाचार फोटो, रेडियो बुलेटिन और सजीव टेलीविजन प्रोग्राम रिले किए गए | जन माध्यम के परास और कार्यक्षेत्र में वृद्धि करने में अंतरिक्ष संचार का समाज पर निश्चित रूप से दूर-व्यापी प्रभाव पड़ेगा……

Pustak Ka Vivaran : Manav sansar ke ek yug ka aavirbhav san 1962 mein hua jabki pahli baar brahma antariksh ke krtim upagrahon dwara mahadwipon ke bich pres prachar, samachar photo, rediyo buletin aur sajiv telivijan program rile kie gae. Jan madhyam ke paras aur kaaryakshetr mein vrddhi karne mein antariksh sanchar ka samaj par nishchit rup se dur-vyapi prabhav padega…………

Description about eBook : The emergence of an era of the human world occurred in 1962, whereas for the first time, press publicity, news photos, radio bulletins and live television programs were relayed between the continents by the cremation satellites of the Brahma space. In order to increase the mass media and scope of the mass media, there will definitely be a far-reaching impact on the society of space communication……………..

“हर कोई दुनिया बदलने की सोचता है, लेकिन कोई भी अपने आपको बदलने की नहीं सोचता।” – लियो टालस्टाय
“Everyone thinks of changing the world, but no one thinks of changing himself.” – Leo Tolstoy

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment