अंतिम जन (अप्रैल 2015) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Antim Jan (April 2015) : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

अंतिम जन (अप्रैल 2015) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पत्रिका | Antim Jan (April 2015) : Hindi PDF Book - Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अंतिम जन (अप्रैल 2015) / Antim Jan (April 2015)
Category, , , , ,
Language
Pages 64
Quality Good
Size 3.6 MB
Download Status Available

अंतिम जन (अप्रैल 2015) पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : सर्वोदिय आन्दोलन के पुरोधा श्री नारायण देसाई जो गांधीजी के सचिव स्व. महादेव भाई
देसाई के पुत्र थे, का लेख भी हम इस अंक में प्रकाशित कर रहे हैं जिसमें उन्होंने लिखा है कि “विवेक केवल
सत्‌ एवं असत्‌ के बीच पसन्द करने की चीज नहीं है। यह तो मामूली आदमी भी कर सकता है कि अच्छा लो

Antim Jan (April 2015) PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sarvoday Aandolan ke Purodha Shri Narayan Desai jo Gandhi ji ke sachiv Sv. Mahadev bhai Desai ke Putra the, ka lekh bhi ham is ank mein prakashit kar rahe hain jisamen unhonne likha hai ki “Vivek keval sat‌ evan asat‌ ke beech pasand karne ki cheej nahin hai. Yah to Mamuli Admi bhi kar sakta hai ki achchha lo bura chhodo……

Short Description of Antim Jan (April 2015) Hindi PDF Book : The leader of Sarvodaya movement, Shri Narayan Desai, who was the secretary of Gandhiji, late. We are also publishing the article of Mahadev Bhai Desai’s son, in which he has written that “discretion is not just a matter of choice between true and unreal. Even a simple man can do this, take good and leave bad….

 

“हम प्रयास के लिए उत्तरदायी हैं, न कि परिणाम के लिए।” गीता
“We are responsible for the effort, not the outcome.” Geeta

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment