रामचर्चा : मुंशी प्रेमचंद द्वारा हिंदी ऑडियो बुक | Ramcharcha : by Munshi Premchand Hindi Audiobook

AudioBook Nameरामचर्चा / Ramcharcha
Author
Category,
Language
Duration4:34 hrs
SourceYoutube

Ramcharcha Hindi Audiobook का संक्षिप्त विवरण : राम चर्चा प्रेमचंद द्वारा लिखी गयी बच्चो की पुस्तक है ये पुस्तक लिखने में उनका मुख्य उदेश्य था कि भगवान राम के गुणों को बच्चों तक पहुचाएँ इसी लिए एक वार्तालाप के रूप में इस पुस्तक हो किया गया है जहाँ भगवान राम अपनी पत्नी सीता से बात कर रहे हैं और अपने जीवन का वर्णन दे रहे हैं प्रथम अध्याय में भगवान् राम अपने जन्म से चारों भाई की शादी तक की कथा संमिलित रूप से कही गई है | दुसरे अध्याय में भगवान् राम वनवास से चित्रकूट तक की कथा सुनाते है | तीसरे अध्याय में भगवान् राम भरत के साथ उनके मिलन से बात शुरू करते है और अशोकवाटिका प्रसंग के साथ इस खंड को समाप्त करते है | चौथे अध्याय में किष्किन्धाकाण्ड की समीक्षा भगवान् राम करते है | पांचवे अध्याय में भगवान् राम लंकादहन से रावण के युद्ध में आने तक के समय को दर्शाते है | विभीषण के राज्याभिषेक से रामचंद्र द्वारा स्वीकृत अयोध्या की राजगादी तक का समय छठे अध्याय में दर्शाया गया है | रामराज्य से भाई लक्ष्मण की मृत्यु और अपने बाकी तिन भाई के साथ इश्वर साधना तक की संक्षिप्त कहानी खंड सात में दी हुई है | 

प्रेमचंद भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे मशहूर लेखकों में से एक हैं, और बीसवीं सदी के सबसे महत्वपूर्ण हिन्दुस्तानी लेखकों में से एक के रूप में जाना जाता है। उनकी रचनाओं में एक दर्जन उपन्यास, लगभग 250 लघु कथाएँ, कई निबंध और अनेकों विदेशी साहित्यिक कृतियों का हिंदी में अनुवाद शामिल है। प्रेमचंद को पहला हिंदी लेखक माना जाता है जिनका लेखन प्रमुखता यथार्थवाद पर आधारित था। उनके उपन्यास गरीबों और शहरी मध्यम वर्ग की समस्याओं का वर्णन करते हैं। उन्होंने राष्ट्रीय और सामाजिक मुद्दों के बारे में जनता में जागरूकता लाने के लिए साहित्य का उपयोग किया और भ्रष्टाचार, बाल विधवापन, वेश्यावृत्ति, सामंती व्यवस्था, गरीबी, उपनिवेशवाद के लिए और भारत के स्वतंत्रता आंदोलन से संबंधित विषयों के बारे में लिखा।

प्रेमचंद ने 1900 के दशक के अंत में कानपुर में राजनीतिक मामलों में रुचि लेना शुरू किया था, और यह उनके शुरुआती काम में दिखाई देता है, जिनमें देशभक्ति का रंग था। शुरू में उनके राजनीतिक विचार मध्यम भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नेता गोपाल कृष्ण गोखले से प्रभावित थे, पर बाद में, उनका झुकाव और अधिक कट्टरपंथी बाल गंगाधर तिलक की ओर हो गया। उन्होंने सख्त सरकारी सेंसरशिप के कारण, उन्होंने अपनी कुछ कहानियों में विशेषकर ब्रिटिश सरकार का उल्लेख नहीं किया, पर लेकिन मध्यकालीन युग और विदेशी इतिहास की सेटिंग में अपने विरोध को छिपा कर व्यक्त किया।

1920 में, वे महात्मा गाँधी के असहयोग आंदोलन और सामाजिक सुधार के लिए संघर्ष से प्रभावित थे। प्रेमचंद का ध्यान किसानों और मजदूर वर्ग के आर्थिक उदारीकरण पर केंद्रित था, और वे तेजी से औद्योगिकीकरण के विरोधी थे, जो उनके अनुसार किसानों के हितों के नुक्सान और श्रमिकों के आगे उत्पीड़न का कारण बन सकता था।

“हमें जो मिलता है उससे हमारा जीवन निर्वाह होता है, लेकिन हम जो देते हैं उससे जीवन निर्माण होता है।” विंस्टन चर्चिल
“We make a living by what we get, but we make a life by what we give.” Winston Churchill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment