औषधीय खरपतवार : वी० के० उमराव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Aushdhiya Kharpatvar : by V. K. Umrav Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameऔषधीय खरपतवार / Aushdhiya Kharpatvar
Author
Category, ,
Language
Pages 73
Quality Good
Size 2.5 MB
Download Status Available

औषधीय खरपतवार का संछिप्त विवरण : साथ लगाना चाहिए। बालों को काला करने के लिए यह प्रमुख जड़ी -बूटी है। घुटे हुए सिर या गंजी जगह में इसका अर्क तेल की तरह लगाने से बाल काले होते हैं तथा झड़ना बन्द हो जाते हैं बिच्छू दंश होने पर जड़ व पत्तियों का अर्क डंक वाले स्थान पर लगाने से विष का प्रभाव कम होता है। जड़ों का अर्क वमनकारी, रेचक तथा ज्वरनाशी के रूप में उपयोगी है………

Aushdhiya Kharpatvar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sath Lagana chahiye. Balon ko kala karne ke liye yah pramukh jadi -booti hai. Ghute huye sir ya Ganji jagah mein isaka ark tel ki tarah lagane se bal kale hote hain tatha jhadana band ho jate hain bichchhoo dansh hone par jad va pattiyon ka ark dank vale sthan par lagane se vish ka prabhav kam hota hai. Jadon ka ark vamanakari, rechak tatha jvaranashi ke roop mein upyogi hai………
Short Description of Aushdhiya Kharpatvar PDF Book : Should be put together. This is the main herb for blackening of hair. Applying its extract like oil on the injured head or bald area, the hair becomes black and the fall stops, in case of scorpion bite, applying the extract of the root and leaves on the sting site reduces the effect of the venom. Root extract is useful as emetic, laxative and antipyretic……
“प्रेम एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी स्वयं की खुशी के लिए दूसरे व्यक्ति की खुशी अनिवार्य होती है” – राबर्ट हेन्लेन
“Love is the condition in which the happiness of another person is essential to your own.” – Robert Heinlein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment