बारह बादाम : पं० रमेशचन्द्र त्रिपाठी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Barah Badam : by Pt. Ramesh Chandra Tripathi Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

बारह बादाम : पं० रमेशचन्द्र त्रिपाठी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Barah Badam : by Pt. Ramesh Chandra Tripathi Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बारह बादाम / Barah Badam
Author
Category, ,
Language
Pages 165
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : लालजी को सब लोग विभु बाबू कहते है। एक लड़की के सिवा उनके और कोई संतान नहीं। पुत्र के लिए बड़े-बड़े यत्न किये, पर तक़दीर के सामने तदबीर न चली। केदार को ही अपने लड़के की तरह मानते और लाड-प्यार करते है। एक बार मुंशीजी चारों धाम की तीर्थयात्रा करने गए, तो एक जड़ी लेते……….

Pustak Ka Vivaran : Lalajee ko sab log vibhu babu kahate hai. Ek Ladaki ke siva unake aur koi santan nahin. Putra ke liye bade-bade yatn kiye, par taqadeer ke samane tadabeer na chali. Kedar ko hee apane ladake kee tarah manate aur lad-pyar karate hai. Ek bar munsheejee charon dham kee teerthayatra karane gaye, to ek jadi lete Aaye…………

Description about eBook : Everyone is called Lalji Vibhu Babu. They have no other child except a girl. He did a lot of efforts for the son, but was not able to face the fate. He treats Kedar as his own boy and loves him dearly. Once Munshi ji went to do pilgrimage to all the four dhams, he used to take a herb…………..

“सफल होने के लिए ज़रूरी है कि आप में सफलता की आस असफलता के डर से कहीं अधिक हो।” ‐ बिल कोस्बी
“In order to succeed, your desire for success should be greater than your fear of failure.” ‐ Bill Cosby

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment