भारतीय जेलों में पाँच साल : मेरी टाइलर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Bharatiya Jelon Mein Panch Sal : by Marie Tyler Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

भारतीय जेलों में पाँच साल : मेरी टाइलर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आत्मकथा | Bharatiya Jelon Mein Panch Sal : by Marie Tyler Hindi PDF Book - Autobiography (Atmakatha)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारतीय जेलों में पाँच साल / Bharatiya Jelon Mein Panch Sal
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 12
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जहाँ तक मेरी बात है, नक्सलवादी आंदोलन के बारे में किसी व्यापक जानकारी का दावा नही कर सकती: मै जो कुछ जान सकी हूँ, उसका एक काफी बड़ा हिस्सा मैंने जेल में रहकर जाना है। नक्सलवादियों| के संपर्क में मैं आयी उनकी निष्ठा और ईमानदारी ने, भारतीय जनता की खुशहाली के लिए उनकी सच्ची चिंता ने………..

Pustak Ka Vivaran : Jahan tak meri bat hai, Naksalavadi aandolan ke bare mein kisi vyapak jankari ka dava nahi kar Sakatei; mai jo kuchh jan saki hoon, usaka ek kaphi bada hissa mainne jel mein rahkar jana hai. Naksalavadiyon| ke sampark mein main aayee unaki Nishtha aur eemanadari ne, bharatiy janata ki khushahali ke liye unakee sachchei chinta ne…….

Description about eBook : As far as I am concerned, I cannot claim any comprehensive information about the Naxalite movement; A large part of what I have come to know, I have to live in jail. Naxalites | I came in contact with his loyalty and honesty, his genuine concern for the well being of the Indian people …….

“अंधकार से अंधकार को दूर नहीं किया जा सकता है, केवल प्रकाश से ही ऐसा किया जा सकता है। नफरत से नफरत को नहीं हटाया जा सकता है, केवल प्यार से ही ऐसा किया जा सकता है।” – मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“Darkness cannot drive out darkness, only light can do that. Hate cannot drive out hate; only love can do that.” -Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment