भूख : अमृतलाल नागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Bhukh : by Amritlal Nagar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameभूख / Bhukh
Author
Category, , , , ,
Pages 220
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आज में इकहत्तर वर्ष पहले संन १८६६ १६०० ई. यानी सवन १६५६ वि. में राजस्थान के अकाल में भी जनमानस का उसी तरह से झिंझोड़ा था | जैसे सन ४३ के वर्ग दुर्भिक्ष ने | इस दुर्भिक्ष ने जिस प्रकार अनेक साहित्यिको और कलाकारी की सजनात्मक प्रतिभा को प्रभावित किया था उसी प्रकार राजस्थान का दुर्भ्रिक्ष भी साहित्य पर अपनी गहरी छाप छोड़ गया……..

Pustak Ka Vivaran : Aj mein ikahattar varsh pahle sann 1866 1600 Isvi. Yani savan 1656 vi. mein raajsthan ke akal mein bhi janmanas ka usi tarah se jhinjhoda tha. Jaise san 43 ke varg durbhiksh ne. Is durbhiksh ne jis prakar anek sahityiko aur kalakari ki sajanaatmak pratibha ko prabhavit kiya tha usi prakar raajsthan ka durbhiksh bhi saahity par apanee gaharee chhap chhod gaya hai……….……….

Description about eBook : In the famine of Rajasthan in the year 1866 1600 AD ie Swan 1656 v. Like the famine of 43 years of famine. As the famine affected the creative talent of many writers and artwork, the famine of Rajasthan also left a deep impression on literature……..

“सब कुछ स्पष्ट होने पर ही निर्णय लेने का आग्रह जो पालता है, वह कभी निर्णय नहीं ले पाता।” हेनरी फ़्रेडरिक आम्येल (१८२१-१८८१), स्विस कवि एवं दार्शनिक
“The man who insists on seeing with perfect clarity before he decides, never decides.” Henri Frederic Amiel (1821-1881), Swiss poet and philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment