हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

नवाबी मसनद / Navabi Masanad

नवाबी मसनद : अमृतलाल नागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Navabi Masanad : by Amritlal Nagar Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नवाबी मसनद / Navabi Masanad
Author
Category, ,
Language
Pages 141
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भूमिका लिखने की प्रथा का महत्व सबसे और कम हो गया जब से ये राजनीतिक नेता लोग साहित्यिकों को अपने आशीर्वाद के दो-दो शब्द बाँटने लगे । वैसे भी, हिंदी में यह कला कभी अपने पूरे बिकाल पर पहुँची, इसमें संदेह है। लोग ज़्यादातर उन्हीं से भूमिका लिखाते हैं जिनका नाम ज्यादा होता है, जिनकी राय जनता पर कुछ असर डाल सकती है। यह अपनी चीज की बिकने के लिए…….

Pustak Ka Vivaran : Bhoomika Likhane kee Pratha ka Mahatv Sabase aur kam ho gaya jab se ye Rajneetik neta log sahityikon ko apane Aasheervad ke do-do shabd bantane lage . Vaise bhee, Hindi mein yah kala kabhi Apane poore bikal par Pahunchi, Isamen sandeh hai. Log Zyadatar unheen se bhoomika likhate hain jinaka nam jyada hota hai, jinakee ray janata par kuchh asar dal sakati hai. Yah Apani cheej kee bikane ke liye………..
Description about eBook : The importance of the role writing practice diminished further when these political leaders started distributing a few words of their blessings to the literati. Anyway, this art in Hindi never reached its entire market, there is doubt. People mostly write roles only from those whose names are more, whose opinions can have some impact on the public. It sells its goods ………..
“अपनों में दूसरों की रुचि जगाने का प्रयास कर आप जितने मित्र दस वर्षों में बना सकतें हैं, उससे कहीं अधिक मित्र आप दूसरों में अपनी रुचि दिखा कर एक माह में बना सकते हैं।” ‐ चार्ल्स ऐलन
“You can make more friends in a month by being interested in them than in ten years by trying to get them interested in you.” ‐ Charles Allen

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment