चरखे ही चरखे : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Charakhe Hi Charakhe : by Sarveshwar Dayal Saxena Hindi PDF Book – History (Itihas)

चरखे ही चरखे : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Charakhe Hi Charakhe : by Sarveshwar Dayal Saxena Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चरखे ही चरखे / Charakhe Hi Charakhe
Author
Category, , ,
Language
Pages 124
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सत्य : इस देश के नेताओं की जबान पर सब कुछ है सिवा सत्य के चाहे वे सत्ता में हों या सत्ता में आने के मंसूबे बना रहे हों। देश का स्वीकृत आप्त वाक्य है सत्यमेव जयते’ । पर वह ‘असत्यमेव जयते’ में बदल गया है। गाँधी ने कहा था सत्य ही ईश्वर है! । उसके चेलों ने ग्रहण किया–असत्य ही सत्ता है। कौन सत्य बोलता है ! पिछले पैतीस वर्षों से एक ‘समाजवादी समाज’ की बात कही….

Pustak Ka Vivaran : Saty : Is Desh ke Netaon ki jaban par sab kuchh hai siva saty ke chahe ve satta mein hon ya satta mein aane ke Mansube bana rahe hon. Desh ka svikrt Aapt vaky hai satyamev jayate . Par vah Asatyamev jayate mein badal gaya hai. Gandhi ne kaha tha saty hi Ishvar hai! . Usake chelon ne grahan kiya- Asaty hee satta hai. Kaun Saty bolata hai ! Pichhale Paitees varshon se ek Samaajavadi samaj ki bat kahi ja………..

Description about eBook : Truth: Everything is on the tongue of the leaders of this country except Satya whether he is in power or making plans to come to power. Satyamev Jayate is the accepted emergency sentence of the country. But he has turned into ‘untimely jayate’. Gandhi said that truth is God! . His disciples assumed – untruth is power. Who speaks the truth For the past thirty five years, a ‘socialist society’ can be said …………

“गलतियों से न सीखना ही एकमात्र गलती होती है।” ‐ रॉबर्ट फ्रिप्प
“There are no mistakes, save one: the failure to learn from a mistake.” ‐ Robert Fripp

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment