चितेरो के महावीर : डॉ. प्रेम सुमन द्वारा हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Chitero Ke Mahavir : by Dr. Prem Suman Hindi PDF Book

Book Nameचितेरो के महावीर/ Chitero Ke Mahavir
Author
Category,
Pages 198
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अमर जैन साहित्य संस्थान, उदयपुर द्वारा अभी तक जो साहित्य प्रकाशित हुआ है, वह आध्यात्म एवं काव्य रस से परिपूर्ण है। सौभाग्य से ‘चितेरो के महावीर” भी ऐसी ही’ कृति है । संस्थान ने इसका प्रकाशन कर अपने पाठको के स्वाध्याय के लिए एक महनीय अवसर प्रदान किया है । वर्तमान युग मे जीवन-मूल्यों व नैतिक आचरण की जिस प्रतिष्ठा की आवश्यकता है……….

Pustak Ka Vivaran : Amar jain sahity sansthan, udaypur dvara abhi tak jo sahity prakashit huya hai, vah aadhyatm evan kavy ras se paripurn hai. Saubhagy se chitero ke mahaveer” bhi aise hi kirti hai. Sansthan ne iska prakashan kar apne pathako ke svadhyay ke liye ek mahaneey avsar pradan kiya hai. Vartaman yug me jeevan-moolyon va naitik aacharan ki jis pratishtha ki aavashyakata hai……….

Description about eBook : The literature which has been published so far by Amar Jain Sahitya Sansthan, Udaipur is full of spirituality and poetry. Fortunately, ‘Mahavir of Chitero’ is also such a work. By publishing this, the institute has provided a great opportunity for the self-study of its readers. The prestige of life-values ​​and moral conduct which is needed in the present era…..

“रोटी या सुरा या लिबास की तरह कला भी मनुष्य की एक बुनियादी ज़रूरत है। उसका पेट जिस तरह से खाना मांगता है, वैसे ही उसकी आत्मा को भी कला की भूख सताती है।” इरविंग स्टोन
“Art’s a staple. Like bread or wine or a warm coat in winter. Those who think it is a luxury have only a fragment of a mind. Man’s spirit grows hungry for art in the same way his stomach growls for food.” Irving Stone

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “चितेरो के महावीर : डॉ. प्रेम सुमन द्वारा हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Chitero Ke Mahavir : by Dr. Prem Suman Hindi PDF Book”

Leave a Comment