धर्मवीर सुदर्शन : उपाध्याय अमर मुनि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Dharmveer Sudarshan : by Upadhyaya Amar Muni Dwara Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

धर्मवीर सुदर्शन : उपाध्याय अमर मुनि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Dharmveer Sudarshan : by Upadhyaya Amar Muni Dwara Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name धर्मवीर सुदर्शन / Dharmveer Sudarshan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 125
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : देखा जब से सेठ सुदशन कपिला सुध-बुध भूल गई | भोग-बासना के जहरीले झूले पर है झूल गई || लोक लाज कुल-मर्यादा का कुछ भी नहीं ख्याल्र रहा | रात दिवस अंदर ही अंदर शल्य बिरह का साल रहा || हर वक्‍त सेठ से मिलने की ही चिंता में वह रहती है | प्राइवेट दासी से अपना भेद साफ सब कहती…..

Pustak Ka Vivaran : Dekha jab se seth sudarshan kapila sudh-budh bhool gayi. Bhog-Vasna ke Jahareele Jhoole par hai jhool gayi. Lok Laj kul-maryada ka kuchh bhi Nahin khyal Raha. Rat divas Andar hi Andar Shaly virah ka saal Raha . Har vakt seth se milane ki hi Chinta mein vah Rahati hai. Praivet dasi se apana bhed saph sab kahati ha………….

Description about eBook : Satha Sadh Sudarshan Kapila remembered Sudh-Mercury. On the toxic swing of indulgence-lust is swinging || People are not feeling anything at all. Inside the night, the surgery was a year of silence. Every time he meets Seth, he remains in worry. The private maid tells her identity clearly…………..

“धन से आज तक किसी को खुशी नहीं मिली और न ही मिलेगी। जितना अधिक व्यक्ति के पास धन होता है, वह उससे कहीं अधिक चाहता है। धन रिक्त स्थान को भरने के बजाय शून्यता को पैदा करता है।” ‐ बेंजामिन फ्रेंकलिन
“Money never made a man happy yet, nor will it. The more a man has, the more he wants. Instead of filling a vacuum, it makes one.” ‐ Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment