ध्यान के कमल : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Dhyan Ke Kamal : Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

ध्यान के कमल : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Dhyan Ke Kamal : Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ध्यान के कमल / Dhyan Ke Kamal
Author
Category,
Language
Pages 73
Quality Good
Size 875 KB
Download Status Available

ध्यान के कमल का संछिप्त विवरण : थोड़े से सवाल हैं। एक मित्र ने पूछा है कि सुबह के ध्यान में शरीर बिल्कुल ही गायब हो जाता है। और जो बचता है वह बहुत विशाल, ओर-छोर से परे लगता है। पर ध्यान के बाद शेष दिन में शरीर का बोध फिर शुरू हो जाता है, फिर क्षुद्र शरीर का अनुभव होने लगता है। तो क्या यह सब अहंकार की ही लीला है……..

Dhyan Ke Kamal PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Thode se Saval hain. Ek Mitra ne Puchha hai ki subah ke dhyan mein shareer bilkul hi Gayab ho jata hai. Aur jo bachata hai vah bahut vishal, or-chhor se pare lagta hai. Par Dhyan ke bad Shesh din mein Shareer ka bodh phir shuru ho jata hai, phir kshudra shareer ka Anubhav hone lagta hai. To kya yah sab Ahankar ki hi leela hai………
Short Description of Dhyan Ke Kamal PDF Book : There are few questions. A friend has asked why the body completely disappears in the morning meditation. And what remains seems to be very vast, beyond end-to-end. But after meditation, for the rest of the day, the awareness of the body starts again, then the feeling of the petty body starts. So is all this ego’s pastime……….
“जीवन में खुशी का अर्थ लड़ाइयां लड़ना नहीं, बल्कि उन से बचना है। कुशलतापूर्वक पीछे हटना भी अपने आप में एक जीत है।” नॉरमन विंसेंट पील (१८९८-१९९३)
“Part of the happiness of life consists not in fighting battles, but in avoiding them. A masterly retreat is in itself a victory.” Norman Vincent Peale (1898-1993)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment