एक थी अनीता हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ek Thi Anita Hindi PDF Book

एक थी अनीता हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ek Thi Anita Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name एक थी अनीता / Ek Thi Anita
Author
Category, , ,
Language
Pages 150
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

एक थी अनीता का संछिप्त विवरण : अनीता ने जब अपने बच्चो का मुख देखा, उसे लगा की किसिने उसे ख़यालों के गहरे पनि से निकालकर किनारे लगा दिया था। उसने सुख का एक लंबा सांस लिया और फिर उसे ऐसे लगा की यह एक औरत नहीं थी, एक मछली थी, जो किनारे लगाकर तड़पने लगी थी। अनीता ने फिर ध्यान से अपने बच्चे का मुख देखा……..

Ek Thi Anita PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aneeta ne jab apane bachcho ka mukh dekha, use laga kee kisine use khayaalon ke gahare pani se nikaalakar kinaare laga diya tha. usane sukh ka ek lamba saans liya aur phir use aise laga kee yah ek aurat nahin thee, ek machhlee thee, jo kinaare lagaakar tadapane lagee thee. aneeta ne phir dhyaan se apane bachche ka mukh dekha…………
Short Description of Ek Thi Anita PDF Book : When Anita saw the face of her children, she thought that she had removed her from the dark panels of the ideas and shore it. He took a long breath of happiness and then felt like it was not a woman, a fisherman who began to harass with the shore. Anita then carefully noticed the face of her child…………
“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” ‐ चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment