गोधूलि : आशापूर्णा देवी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Godhuli : by Aashapurna Devi Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameगोधूलि / Godhuli
Author
Category, , , ,
Language
Pages 282
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : वंदना पति को भी नहीं देख रही थी, लड़की की तरफ भी नहीं। उसकी आँखें बस सफ़ेद दीवार पर टिकी थी। उस दीवार पर क्या लिखा हुआ था। बहुत बार मन्दिरा के मन में आया है कि उस समय माँ किसकी बात सोच रही थी ? किसके लिए उनके चेहरे पर वेदना इतनी स्पष्ट उभर आयी थी………

Pustak Ka Vivaran : Kuchh Dinon bad kam kaj band raha. Usake bad Phir Makan Poora ban jane ke bad hi kam khatm huya. Anupam Mitra ki Parikalpana aur yojana ke Anusar hi sab kuchh bana. Kahin bhee koi kami nahin thee. Kamare ki Deevaron ka Rang, Batharoop ka mojaik aadi. Suchinta Mitra ne kaha – Unaki Ichchha thee. Vaisi hi hona chahiye……

Description about eBook : After a few days the work remained closed. After that, the work was finished only after the house was completed. Everything was made according to the vision and plan of Anupam Mitra. There was no shortage anywhere. The color of the walls of the room, the mosaic of the bathroom, etc. Suchita Mitra said – she wished. It should be the same …….

“एक मूल नियम है कि समान विचारधारा के व्यक्ति एक दूसरे के प्रति आकर्षित होते हैं। नकारात्मक सोच सुनिश्चित रुप से नकारात्मक परिणामो को आकर्षित करती है। इसके विपरीत, यदि कोई व्यक्ति आशा और विश्वास के साथ सोचने को आदत ही बना लेता है तो उसकी सकारात्मक सोच से सृजनात्मक शक्तियों सक्रिय हो जाती हैं- और सफलता उससे दूर जाने की बजाय उसी ओर चलने लगती है” – नार्मन विंसेन्ट पीएले
“There is a basic law that like attracts like. Negative thinking definitely attracts negative results. Conversely, if a person habitually thinks optimistically and hopefully, his positive thinking sets in motion creative forces — and success instead of eluding him flows toward him.” – Norman Vincent Peale

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment