सुवर्णलता : आशापूर्णा देवी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Suvarnalata : by Aashapurna Devi Hindi PDF Book – Upanyas (Novel)

Book Nameसुवर्णलता / Suvarnalata
Author
Category, , , ,
Language
Pages 501
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सुवर्ण नौ साल की उम्र में इनके घर आयी है, तब से यही है। माँ है नहीं, लिवा कौन जाये ? बाप ने साहस ही नहीं किया। निकट पास की एक कुआ है। उसने एक बार लिवा लाना चाहा था, इन लोगों ने भेजा नहीं। कहा, ‘उस कुल से अब नाता रखने की जरुरत नहीं। कभी-कभार बाप मिलने……….

Pustak Ka Vivaran : Suvarn Nau sal ki umr mein inake ghar aayi hai, tab se yahi hai. Man hai nahin, liva kaun jaye ? Bap ne Sahas hee nahin kiya. Nikat pas ki ek kua hai. Usane ek bar liva lana chaha tha, in logon ne bheja nahin. Kaha, us kul se ab Nata Rakhane ki Jarurat nahin. Kabhi-kabhar bap Milane…….

Description about eBook : Suvarna has come to her house at the age of nine, this is the case since then. Mother is not there, who should go? The father did not dare. There is a nearby well. He once tried to get a live, these people did not send. Said, ‘There is no need to belong to that family now. Occasionally to meet the father ………

“हममें से जीवन किसी के लिए भी सरल नहीं है। लेकिन इससे क्या? हम में अडिगता होनी चाहिए तथा इससे भी अधिक अपने में विश्वास होना चाहिए। हमें यह विश्वास होना चाहिए कि हम सभी में कुछ न कुछ विशेषता है तथा इसे अवश्य ही प्राप्त किया जाना चाहिए।” ‐ मैरी क्यूरी
“Life is not easy for any of us. But what of that? We must have perseverance and above all confidence in ourselves. We must believe that we are gifted for something and that this thing must be attained.” ‐ Marie Curie

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment