हँस : प्रेमचन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Hans : by Premchand Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

हँस : प्रेमचन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Hans : by Premchand Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हँस / Hans
Author
Category, ,
Language
Pages 75
Quality Good
Size 74.1 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कुछ घटनाए ऐसी घट जाती है, कि उन्हे सयोग कह देने से जी को तृप्ति नहीं होती। संयोग के अतिरिक्त उन्हें और कुछ कहने का साहस भी कैसे ? बुद्धि वहाँ आकर रज जाती है, और उनसे टकराकर सुन्न होकर बैठ रहती है। आगे उसके लिए धरती नहीं, राह नहीं, गति नहीं। कुछ भी चीमह पाने का आगे सुमीता………………

Pustak Ka Vivaran : Kuchh Ghatanayen aisi Ghat jatee hai, ki Unhen sanyog kah dene se jee ko trapti nahin hoti. Sanyog ke atirikt unhen aur kuchh kahane ka sahas bhee kaise ? buddhi vahan aakar raj jati hai, aur unase takarakar sunn hokar baith rahati hai. Age usake lie dharatee nahin, rah nahin, gati nahin. kuchh bhee cheemah pane ka Aage sumeeta…………

Description about eBook : Some incidents fall like this, that does not satisfy Jai after telling them a coincidence. Apart from coincidence, how do they even have the courage to say anything else? Wisdom comes there and rises, and it stays with them and becomes numb. No further earth, no way, no movement, no movement for it. Sumita next to get something………………

“चाहे यह आपके लिए सबसे अच्छा समय हो, अथवा सबसे खराब समय हो, केवल और केवल समय ही हमारे पास होता है” – आर्ट बचवाल्ड
“Whether it’s the best of times or the worst of times, it’s the only time we’ve got.” – Art Buchwald

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment