हाथ का अंगूठा भाग्य का दर्पण : डॉ. भोजराज द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ज्योतिष | Hath Ka Angutha Bhagya Ka Darpan : by Dr. Bhojraj Dwivedi Hindi PDF Book – Astrology (Jyotish)

Book Nameहाथ का अंगूठा भाग्य का दर्पण / Hath Ka Angutha Bhagya Ka Darpan
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 224
Quality Good
Size 73.5 MB

पुस्तक का विवरण : उपनिषद्‌ ऋषि ने जीवात्मा को सत्त्व, रज और तम इन तीनों गुणों से बंधा हुआ माना है। सामुद्रिक शास्त्र ने भी अंगूठे को तीन भागों में विभक्त किया है। पहला उपरि भाग ब्रह्मा, मध्य विष्णु तथा अंतिम (शुक्र स्थल) शिव से संचालित माना है जो कि क्रमशः सत्त्व, रज और तम के प्रतीकात्मक रूप हैं। ऋषि ने जीवात्मा को सूर्य के समान……..

हाथ का अंगूठा भाग्य का दर्पण : डॉ. भोजराज द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ज्योतिष | Hath Ka Angutha Bhagya Ka Darpan : by Dr. Bhojraj Dwivedi Hindi PDF Book – Astrology (Jyotish)

 

Pustak Ka Vivaran : Upnishad‌ Rishi ne Jeevatma ko sattv, Raj aur tam in teenon Gunon se bandha huya mana hai. Samudrik shastra ne bhi Angoothe ko teen bhagon mein vibhakt kiya hai. Pahla upari bhag brahma, madhy vishnu tatha antim (Shukr sthal) shiv se Sanchalit mana hai jo ki kramashah sattv, Raj aur tam ke Pratikatmak roop hain. Rishi ne Jeevatma ko soory ke saman……..

Description about eBook : The Upanishad sages have considered the soul to be bound by these three gunas, sattva, rajas and tamas. Samudrik Shastra has also divided the thumb into three parts. The first upper part is believed to be governed by Brahma, the middle Vishnu and the last (place of Venus) Shiva, who are the symbolic forms of Sattva, Raja and Tama respectively. The sage treated the soul as the sun……….

“संभावनाओं की सीमाओं का पता लगाने का एकमात्र रास्ता है कि उनसे आगे बढ़कर असंभव तक पहुंचा जाए।” ‐ आर्थर सी. क्लार्क
“The only way of finding the limits of the possible is by going beyond them into the impossible.” ‐ Arthur C. Clarke

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment