सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

जय जय प्रियतम / Jai Jai Priyatam

जय जय प्रियतम : राधा बाबा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jai Jai Priyatam : by Radha Baba Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जय जय प्रियतम / Jai Jai Priyatam
Author
Category, , , ,
Language
Pages 205
Size 16 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

जय जय प्रियतम  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : राधा बाबा को अगर कोई एक-एक लक्षण पर परखे तो उनको सौ टंच खरा पायेगा। मुझे
अगर एक विशेषण से ही राधा बाबा को परिभाषित करना हो तो मैं उनको कहूंगा-‘विशुद्ध संत’।| तुलसीदास ने
भी संत के लिये यह विशिष्ट विशेषण शायद एक ही बार प्रयुक्त किया हैं संत बिसुद्ध मिलहिं परि तेही । राम
कृपा करि चितवहिं जेही…..

 

Jai Jai Priyatam PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Radha Baba ko agar koi ek-ek lakshan par parakhe to unko sau tanch khara payega. Mujhe Agar ek visheshan se hi Radha Baba ko Paribhashit karana ho to main unko kahunga-vishuddh Sant Tulasidas ne bhi Sant ke liye yah vishisht visheshan shayad ek hi bar prayukt kiya hain sant bisuddh milahin pari tehi. Ram kripa kari chitavahin jehi…….

Short Description of Jai Jai Priyatam Hindi PDF Book : If someone tests Radha Baba on every single symptom, he will be able to find a hundred touches of truth. If I had to define Radha Baba by one adjective, I would call him ‘Vishuddha Sant’. Tulsidas has also used this specific epithet for a saint, perhaps only once. ram please chitwahin jehi…….

 

“एक सफल व्यक्ति वह है जो दूसरों द्वारा अपने ऊपर फेंकी गई ईंटों से एक मजबूत नींव बना सके।” ‐ डेविड ब्रिंकले
“A successful man is one who can lay a firm foundation with the bricks others have thrown at him.” ‐ David Brinkley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment