जैनाचार्यों का शासन भेद : पं० जुगल किशोर जी मुख़्तार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jainacharyon Ka Shasan Bhed : by Pt. Jugal Kishore Ji Mukhtar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameजैनाचार्यों का शासन भेद / Jainacharyon Ka Shasan Bhed
Author
Category, ,
Language
Pages 86
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जैन समाज के सुप्रसिद्ध विद्वान पं जुगल किशोर जी मुख्तार की लेखनी से प्रकट हुआ यह ग्रन्थ जैन साहित्य में एक बिलकुल ही नई चीज़ है मुख्तार साहब के गहरे अनुसंधान, विचार तथा परिश्रम का फल है। इसमें बड़ी खोज के साथ जैनाचार्यों के पारस्परिक शासन भेद को दिखलाते हुए, श्रावकों के अष्ट मूलगुणों, पंच अणुत्रतों, तीन गुणततों……..

Pustak Ka Vivaran : Jain Samaj ke Suprasiddh vidvan Pt. Jugal kishor Ji Mukhtar ki lekhanee se prakat huya yah granth jain sahity mein ek bilkul hee naee cheez hai mukhtar sahab ke gahare Anusandhan, vichar tatha parishram ka phal hai. Isamen badi khoj ke sath Jainacharyon ke parasparik shasan bhed ko dikhlate huye, Shravakon ke asht Moolagunon, panch anunraton, teen Gunataton……….

Description about eBook : This book, which appeared from the writings of the well-known scholar of Jain society, Pt. Jugal Kishore Ji Mukhtar, is a completely new thing in Jain literature, it is the fruit of Mukhtar Sahib’s deep research, thought and hard work. In this, showing the difference of mutual rule of Jainacharyas with great discovery, the eight basic qualities of the Shravakas, the Pancha Anunratas, the three Gunatats………..

“जो व्यक्ति अपने बारे में नहीं सोचता, वह सोचता ही नहीं है।” ‐ ऑस्कर वाइल्ड
“A man who does not think for himself does not think at all.” ‐ Oscar Wilde

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment