समन्तभद्र – विचार – दीपिका : जुगलकिशोर मुख़्तार ‘युगवीर’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Samantabhadra – Vichar – Deepika : by Jugal Koshir Mukhtar ‘Yugveer’ Hindi PDF Book – Granth

समन्तभद्र - विचार - दीपिका : जुगलकिशोर मुख़्तार 'युगवीर' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Samantabhadra - Vichar - Deepika : by Jugal Koshir Mukhtar 'Yugveer' Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name समन्तभद्र – विचार – दीपिका / Samantabhadra – Vichar – Deepika
Author
Category, ,
Language
Pages 42
Quality Good
Size 577 KB
Download Status Available

समन्तभद्र – विचार – दीपिका का संछिप्त विवरण : एक मनुष्य किसी वैद्य को एक रोग पर कुचले का प्रयोग करते हुए देखता है और यह कहते हुए भी सुनता है कि कुचला जीवटत होता है तो रोगों को मारता है, और जीवनी शक्ति को बढ़ाता है। साथ ही, वह यह भी अनुभव करता है कि वह रोगी कुचल के खाने से अच्छा तन्द्ररस्त तथा हस्टपुष्ट हो गया। इस पर से वह अपनी……

Samantabhadra – Vichar – Deepika PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek Manushy kisi Vaidy ko ek Rog par kuchale ka prayog karate huye dekhata hai aur yah kahate huye bhi sunata hai ki kuchala Jeevatat hota hai to Rogon ko marata hai, Aur Jeevani shakti ko badhata hai. Sath hee, vah yah bhi Anubhav karata hai ki vah Rogi kuchal ke khane se Achchha Tandurast tatha hastapusht ho gaya. Is par se vah Apani………
Short Description of Samantabhadra – Vichar – Deepika PDF Book :  A human sees a physician using a crochet on a disease and hears it even by saying that if a crush occurs, it kills diseases, and enhances the life force. At the same time, he also feels that the patient has become very healthy and nervous by eating crushed. On this, he has his …….
“वह व्यक्ति अच्छा कार्य निष्पादन करता है जो परिस्थितियों का ठीक से सामना करता है।” प्लुटार्च
“He shall fare well who confronts circumstances aright.” Plutarch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment