ज्योति से ज्योति जले : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jyoti Se Jyoti Jale : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

ज्योति से ज्योति जले : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jyoti Se Jyoti Jale : by Osho Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ज्योति से ज्योति जले / Jyoti Se Jyoti Jale
Author
Category, , , ,
Language
Pages 499
Quality Good
Size 4.8 MB

पुस्तक का विवरण : इस जगत में जो व्यक्ति अपने भीतर छिपे परमात्मा को जान ले, वही भरा; शेष सब खाली ही चले जाते हैं। और जो खाली चले जाते हैं, उन्हें वापस लौट आना पड़ता है। आना ही पड़ेगा, क्योंकि परमात्मा खाली घटों को अंगीकार नहीं करता। पूर्ण घट चाहिए, भरे घट चाहिए। उसके द्वार पर जले दीये ही अंगीकार होते हैं। बुझे दीये की तरह, अपशकुन की तरह उसके द्वार पर मत चले जाना। जले दीये की तरह जाना। भरे घट की तरह…………

ज्योति से ज्योति जले : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jyoti Se Jyoti Jale : by Osho Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Is Jagat mein jo vyakti apane bheetar chhipe Paramatma ko jan le, vahi bhara; shesh sab khali hi chale jate hain. aur jo khali chale jate hain, unhen vapas laut aana padata hai. Aana hi padega, kyonki Parmatma khali ghaton ko Angikar nahin karta. Purn ghat chahiye, bhare ghat chahiye. uske dvar par jale deeye hi Angikar hote hain. Bujhe deeye ki tarah, apashakun ki tarah uske dvar par mat chale jana. Jale deeye ki tarah jana. Bhare ghat ki tarah…………

Description about eBook : In this world, the person who comes to know the hidden God within himself, he is filled; Everything else goes blank. And those who leave empty have to come back. You have to come, because God does not accept empty moments. You need a full decrease, a full decrease is needed. Only the lamps lit at his door are accepted. Like a extinguished lamp, don’t go to his door like a bad omen. Go like a lit lamp. Like a filled pot…………

“कितनी भयावह बात है कि हमें पर्यावरण की रक्षा के लिए अपनी ही सरकार से संघर्ष करना पड़ता है।” – एनसल एडम्स (१९०२-१९८४), छायाकार
“It is horrifying that we have to fight our own government to save the environment.” – Ansel Adams (1902-1984), Photographer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment