कागज़ के फूलों का पेड़ : थाईलैंड की एक लोककथा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Kagaz ke Phoolon ka Ped : Folktale From Thailand Hindi PDF Book

कागज़ के फूलों का पेड़ : थाईलैंड की एक लोककथा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Kagaz ke Phoolon ka Ped : Folktale From Thailand Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कागज़ के फूलों का पेड़ : थाईलैंड की एक लोककथा / Kagaz ke Phoolon ka Ped : Folktale From Thailand
Category, , ,
Pages 34
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

कागज़ के फूलों का पेड़ : थाईलैंड की एक लोककथा का संछिप्त विवरण : एक दिन सड़क पूरी तरह से वीरान ओर शांत थी, और आसमान मे सूरज बहुत तेज़ी से चमक रहा था। तब मिस मून को दूरी पर एक आदमी दिखाई दिया। वो चलते चलते हाँफ रहा था और ज़ोर ज़ोर से सांस ले रहा था। उसके कंधे पर बस एक बांस टीका था जिससे कागज के रंगीन टुकड़े लटके थे………

Kagaz ke Phoolon ka Ped : Folktale From Thailand PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : ek din sadak pooree tarah se veeraan or shaant thee, aur aasamaan me sooraj bahut tezee se chamak raha tha. tab mis moon ko dooree par ek aadamee dikhaee diya. vo chalate chalate haanph raha tha aur zor zor se saans le raha tha. usake kandhe par bas ek baans teeka tha jisase kaagaj ke rangeen tukade latake the………….
Short Description of Kagaz ke Phoolon ka Ped : Folktale From Thailand PDF Book : One day the road was completely deserted and quiet, and the sun was shining very rapidly in the sky. Then Miss Moon appeared a man at a distance. He was walking on foot and loudly breathing heavily. There was just a bamboo vaccine on his shoulder, which had hanged the colorful pieces of paper…………..
“कोई सपना देखे बिना कुछ नहीं होता।” ‐ कार्ल सैंडबर्ग (१८७८-१९६७), कवि
“Nothing happens unless first a dream.” ‐ Carl Sandberg (1878-1967), Poet

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment