कालिदास के सुभाषित : भगवत शरण उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Kalidas Ke Subhashit : by Bhagwat Sharan Upadhyay Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

कालिदास के सुभाषित : भगवत शरण उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kalidas Ke Subhashit : by Bhagwat Sharan Upadhyay Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कालिदास के सुभाषित / Kalidas Ke Subhashit
Author
Category, , , ,
Pages 359
Quality Good
Size 131 MB
Download Status Available

कालिदास के सुभाषित का संछिप्त विवरण : कालिदास का सौन्दर्य उनका-सा सहदय ही परख सकता है। न मैं कवि हूँ न पारखी, जिज्ञास मात्र हूँ। जिज्ञासा ने ही मेरे भीतर उस महाकवि के प्रति लौ लगाई है। मैंने तो केवल मणिहार की तरह मणियों को गूँध भर दिया है। उनकी पहचान जानकार ही करेंगे। संस्कृत के प्रति संसार की बढ़ती हुई आस्था ने मुझे कालिदास सुभाषित एकत्र करने को बाध्य किया। मुझे सदा लगता रहा है………

Kalidas Ke Subhashit PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kalidas ka saundary unaka-sa sahraday hi parakh sakata hai. na main kavi hoon na Parakhi, jigyasu matra hoon. jigyasa ne hi mere bheetar us Mahakavi ke prati lau lagayi hai. Mainne to keval manihar ki tarah maniyon ko goonth bhar diya hai. Unki Pahchan jankar hi karenge. Sanskrt ke prati sansar ki badhati huyi Aastha ne mujhe kalidas subhashit ekatra karane ko badhy kiya. Mujhe sada lagata raha hai……..
Short Description of Kalidas Ke Subhashit PDF Book : The beauty of Kalidas can be tested only by his kind heart. I am neither a poet nor a connoisseur, I am just a curious person. Curiosity has ignited a flame in me towards that great poet. I have just tangled the gems like a gem. Only the knowledgeable will identify them. The growing faith of the world towards Sanskrit compelled me to collect Kalidasa’s Subhashit. I’ve always felt……
“हम जैसा सोचते हैं वैसे बनते हैं।” – अर्ल नाइटिंगेल
“We become what we think about. ” – Earl Nightingale

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment