कवि का समाज : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Kavi Ka Samaj : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

कवि का समाज : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Kavi Ka Samaj : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कवि का समाज / Kavi Ka Samaj
Author
Category, , ,
Language
Pages 1
Quality Good
Size 54 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मैं एक ऐसा समाज देख रहा हूँ, जिसमें दासत्व का अस्तित्व नहीं है; जिसमें प्रत्येक मनुष्य स्वाधीनता और आनन्द के साथ विचरण कर रहा है: जहाँ विज्ञान के द्वारा प्राकृतिक शक्तियां बांध ली गई हैं; ज्योति और विद्युत, वायु और तरंग, सर्दी, और गर्मी एवं पृथ्वी तथा वायुमण्डल की सभी सूक्ष्म और गुप्त शक्तियां मनुष्य जाति की आज्ञाधारक दासियाँ बन गई हैं……

Pustak Ka Vivaran : Main Ek Aisa Samaj dekh raha hoon, Jisamen Dasatv ka Astitv nahin hai; Jisamen pratyek manushy svadhinata aur Anand ke sath vicharan kar raha hai; jahan Vigyan ke dvara prakrtik shaktiyan bandh li gayi hain; jyoti aur vidyut, vayu aur tarang, sardi, aur Garmi evan prthvi tatha vayumandal ki sabhi sookshm aur gupt shaktiyaan manushy jati ki Aagyadharak dasiyan ban gayi hain……

Description about eBook : I see a society in which slavery does not exist; in which every human being is walking with freedom and joy; Where natural forces have been tied up by science; Light and electricity, wind and wave, cold and heat and all the subtle and secret forces of the earth and atmosphere have become obedient slaves of the human race……

“आज से एक वर्ष बाद आप सोचेंगे कि काश आपने आज से शुरुआत की होती।” केरेन लेम्ब
“A year from now you will wish you had started today.” Karen Lamb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment