समाज कार्य परिभाषा कोश : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Samaj Karya Paribhasha Kosh : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

समाज कार्य परिभाषा कोश : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Samaj Karya Paribhasha Kosh : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name समाज कार्य परिभाषा कोश / Samaj Karya Paribhasha Kosh
Author
Category,
Language
Pages 198
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

समाज कार्य परिभाषा कोश पुस्तक का कुछ अंश : मानविकी तथा सामाजिक विज्ञानो के लगभग सभी विषयों में शब्दावली निर्माण का काम पूरा हो जाने के बाद १९७० में यह आवश्यक समझा गया कि अंतिम रूप से निश्चय की गई शब्दावली की स्थायित्व देने के लिए प्रत्येक विषय में परभाषा कोशो का निर्माण किया जाये | परिभाषा से शब्दावली सुस्थिर बनती है | प्रस्तुत कोश इसी उद्देश्य से तैयार किया गया………..

Samaj Karya Paribhasha Kosh PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Manviki tatha samajik vigyano ke lagbhag sabhi vishayon mein shabdavali nirman ka kaam pura ho jane ke baad 1970 mein yah aavashyak samjha gaya ki antim rup se nishchay ki gai shabdavali ki sdhayitv dene ke lie pratyek vishay mein parabhasha kosho ka nirman kiya jaye. Paribhasha se shabdavali susthir banti hai. Prastut kosh isi uddeshy se taiyar kiya gaya hai…………
Short Passage of Samaj Karya Paribhasha Kosh Hindi PDF Book : After the completion of the construction of vocabulary in almost all subjects of humanities and social sciences, it was considered necessary in the year 1970 to give the definition of the terminology that has been finalized. By definition, the vocabulary becomes stable. The presentation is prepared with the same purpose……………
“मृत्यु और टैक्स और संतान! इन में से किसी के लिए भी कभी उचित वक़्त नहीं होता।” ‐ माग्रेट मिशेल
“Death and taxes and childbirth! There’s never any convenient time for any of them.” ‐ Margaret Mitchell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment