लाइट कैमरा एक्शन दादा साहिब फाल्के के जीवनकाल की एक झलक : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Light Camera Action Dada Saheb Phalke Ke Jeevankal Ki Ek Jhalak : Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

Book Nameलाइट कैमरा एक्शन दादा साहिब फाल्के के जीवनकाल की एक झलक / Light Camera Action Dada Saheb Phalke Ke Jeevankal Ki Ek Jhalak
Category, , , , ,
Language
Pages 24
Quality Good
Size 2.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : हालाँकि दादासाहब जो भी काम करते थे उसे पूरे जोश और लगन के साथ करते थे, लेकिन रोज़गार के मामले में वह बहुत कामयाब नहीं थे। इसलिए कुछ लोग उन्हें सिरफिरा समझते थे। लेकिन उनकी पत्नी उनकी काबिलीयत और लगन की क़ायल थीं। उन्हें अपने पति पर गर्व था। आर्थिक तंगी के दौर में भी वह अडिग चट्टान की तरह उनके साथ डटी रहीं…….

Pustak Ka Vivaran : Halanki Dadasaheb jo bhi kam karte the use poore josh aur lagan ke sath karate the, lekin Rozgar ke mamale mein vah bahut kamyab nahin the. Isliye kuchh log unhen siraphira samajhate the. Lekin unki Patni unki kabiliyat aur lagan ki qayal theen. Unhen apne Pati par garv tha. Aarthik tangi ke daur mein bhi vah adig chattan ki tarah unke sath dati raheen……..

Description about eBook : Although Dadasaheb used to do whatever work he did with full zeal and dedication, he was not very successful in terms of employment. That’s why some people considered him a madman. But his wife was convinced of his ability and dedication. She was proud of her husband. She stood by him like a steadfast rock even in times of financial crisis……..

“हमारे जीवन का उस दिन अंत होना शुरू हो जाता है जिस दिन हम उन विषयों के बारे में चुप रहना शुरू कर देते हैं जो मायने रखते हैं।” ‐ मार्टिन लुथर किंग, जूनियर
“Our lives begin to end the day we become silent about things that matter.” ‐ Martin Luther King Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment