हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

मैं एक फेरीवाला / Mai Ek Ferivala

मैं एक फेरीवाला : राही मासूम रजा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Mai Ek Ferivala : by Rahi Masoom Raja Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मैं एक फेरीवाला / Mai Ek Ferivala
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 104
Quality Good
Size 846.8 KB
Download Status Available

मैं एक फेरीवाला पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  दोस्तों के बारे में एक अजीब आदत है मेरी। अवसर मैं उनके बहुत से काम, उनकी बातें,
उनकी बहसें भूल जाता हूँ लेकिन उनके व्यक्तित्व की एक कोई खास सूक्ष्म-सी चीज याद जाती है। वह
सूक्ष्म, यह सूक्ष्म, यह अरूप चीज मेरे मन में उस दोस्त का प्यार बनकर बीएस जाती है, हमेशा के

लिए..

Mai Ek Ferivala PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Doston ke bare mein ek ajeeb Adat hai meri. Avasar main unake bahut se kam, unaki baten, unakee bahasen bhool jata hoon lekin unake vyaktitv kee ek koi khas sookshm-see cheej yad jati hai. Vah sookshm, yah sookshm, yah aroop cheej mere man mein us dost ka pyar banakar bees jati hai, hamesha ke liye…………

Short Description of Mai Ek Ferivala Hindi PDF Book : Friends have a strange habit about my Opportunity I forget many of his work, his talk, his arguments, but he misses one of the special subtle things of his personality. It is subtle, this subtle thing, this kind of thing goes into my mind becoming the love of that friend, forever…………..

 

“जीवन की भाग-दौड़ तथा उथल-पुथल में अंदर से शांत बने रहें।” दीपक चोपड़ा
“In the midst of movement and chaos of life keep stillness inside of you.” Deepak Chopra

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment