रणभेरी फिर ललकार रही : वीरेन्द्र मेहता द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Ranbheri Fir Lalkar Rahi : by Veerendra Mehta Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

Book Nameरणभेरी फिर ललकार रही / Ranbheri Fir Lalkar Rahi
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 155
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इतिहास साक्षी है, हम कभी आक्रांता रहे। हम सदा शान्ति के साधक रहे हैं, किन्तु यह भी सत्य है कि हमारी मातृभूमि पर जब भी किसी ने आक्रमण का :साहस किया है, भारत माँ की बीर सन्तानों ने उनको मुँहतोड़ जवाब दिया है। अपनी मातृ-भूमि की आन को अक्षुण्ण रखने वाले युद्ध-रत सेनानियों को प्रेरणा देते रहे हैं देश के कवि……

Pustak Ka Vivaran : Itihas sakshi hai, ham kabhi Aakranta nahin rahe. Ham sada shanti ke sadhak rahe hain, kintu yah bhi saty hai ki hamari matrbhoomi par jab bhi kisi ne Aakraman ka :sahas kiya hai, bharat man ki Veer santanon ne unako munhatod javab diya hai. Apani matra-bhoomi ki Aan ko Akshunn rakhane vale yuddh-Rat senaniyon ko prerana dete rahe hain desh ke kavi………

Description about eBook : History is witness, we have never been invaders. We have always been a seeker of peace, but it is also true that whenever someone has dared to invade our motherland, the children of Mother India have given them a befitting reply. Poets of the country have been inspiring the war-fighters who keep their mother-land intact……..

“यदि आप किसी चीज का सपना देख सकते हैं, तो आप उसे प्राप्त कर सकते हैं।” ‐ वाल्ट डिज़नी
“If you can dream it, you can do it.” ‐ Walt Disney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment