मौक्तिक : मूलचन्द ‘प्राणेश’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Mauktik : by Moolchand ‘Pranesh’ Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameमौक्तिक / Mauktik
Author
Category, , , , , , , ,
Language
Pages 86
Quality Good
Size 501 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यह देश हमेशा से लड़ना मरना और शत्रु का मारना जानता है परन्तु हार मानना नही जानता। यह धरती वीर प्रसूना है। यहाँ धरती का मोल माथा देकर चुकाया जाता है। यहाँ कवि आज़ादी के प्रतीक तिरंगा में शहीदों का दर्शन करता है। साथ ही कवि को इस बात का पश्चाताप भी है कि जो भारत अरे पूरे परिवार का मालिक……

Pustak Ka Vivaran : Yah Desh Hamesha se Ladana Marana Aur Shatru ka Marana janata hai Parantu har Manana nahin janata. Yah Dharati Veer Prasuna hai. Yahan Dharati ka mol Matha Dekar chukaya jata hai. Yahan kavi Aazadi ke prateek Tiranga mein Shaheedon ka darshan karata hai. Sath hee kavi ko is bat ka pashchatap bhi hai ki jo bharat are poore Parivar ka Malik………

Description about eBook : This country always knows how to fight, die and kill the enemy, but does not know to give up. This earth is heroic. Here the price of the earth is paid by paying the forehead. Here the poet sees martyrs in the tricolor, symbol of freedom. At the same time, the poet also regrets that the owner of the whole family, which is India ……

“ऐसा नहीं है कि कार्य कठिन हैं इसलिए हमें हिम्मत नहीं करनी चाहिए, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम हिम्मत नहीं करते हैं इसलिए कार्य कठिन हो जाते हैं।” ‐ सेनेका
“It is not because things are difficult that we do not dare; it is because we do not dare that things are difficult.” ‐ Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment