मेरा समाजवाद : गांधीजी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Mera Samajvad : by Gandhi Ji Hindi PDF Book – Social (Samajik)

मेरा समाजवाद : गांधीजी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Mera Samajvad : by Gandhi Ji Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मेरा समाजवाद / Mera Samajvad
Author
Category, ,
Pages 70
Quality Good
Size 1 MB

पुस्तक का विवरण : आज पूंजीपति और मजदूर के हितों में इसलिए संघर्ष कि पूंजीपति मजदूर को कुछ भी दिये वगैर लाखों रुपये का नफा कमाने का सपना देखता है। मैं पूंजीपतियों को ऐसा करने से रोक दूँगा। मैंने अहमदाबाद में खास तौर पर उनसे कह दिया है कि उन्हें मजदूरों को अपने भागीदार मानना चाहिये | मैं उनसे कहता हूँ आप अपनी पूंजी कारखाने में लाते हैं……..

Pustak Ka Vivaran : Aaj Punjipati aur majdoor ke hiton mein isaliye sangharsh ki poonjipati majdoor kon kuchh bhi diye vagair lakhon rupaye ka napha kamane ka sapana dekhata hai. Main Punjipatiyon ko aisa karane se rok doonga. Mainne ahmadabad mein khas taur par unase kah diya hai ki unhen majduron ko apane bhagidar manana chahiye . Main unase kahata hoon aap apani punji karkhane mein late hain……….

Description about eBook : Today, there is a struggle in the interests of the capitalist and the workers because the capitalist dreams of earning a profit of lakhs of rupees without giving anything to the laborer. I will stop the capitalists from doing so. I have specifically told him in Ahmedabad that he should consider laborers as his partner. I tell them you bring your capital to the factory ……….

“मेरी पीढ़ी की महानतम खोज यह रही है कि मनुष्य अपने दृष्टिकोण में परिवर्तन कर के अपने जीवन को बदल सकता है।” ‐ विलियम जेम्स (१८४२-१९१०), अमरीकी दार्शनिक
“The greatest discovery of my generation is that a human being can alter his life by altering his attitudes.” ‐ William James (1842-1910), American Philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment