पक्षी – परिचय : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Pakshi – Parichay : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameपक्षी – परिचय / Pakshi – Parichay
Author
Category, ,
Language
Pages 219
Quality Good
Size 3.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : साधारण कोओं का घोसला उतना अच्छा नहीं होता जितना बड़े कौओं का। इसके लिए खासकर डण्ठल और टहनियां जुटाई जाती है, और भीतर नरम घास या बालों का बिछावन किया जाता है। बाल कभी तो घोड़े की पूंछ होते है, कभी मनुष्य के सिर, दाढ़ी या मूंछ के। संभव है ,कोए के घोसलों में लम्बा-सा बारीक ………

Pustak Ka Vivaran : Sadharan kauon ka ghosala utana achchha nahin hota jitana bade kauon ka. isake liye khasakar danthal aur tahaniyan jutaee jati hai, aur bheetar naram ghas ya balon ka bichhavan kiya jata hai. bal kabhi to ghode kee poonchh hote hai, kabhee manushy ke sir, dadhee ya moonchh ke. sambhav hai ,kaue ke ghosalon mein lamba-sa bareek…………

Description about eBook : The scramble of ordinary crows is not as good as that of larger crows. For this, especially stalks and twigs are collected, and soft grass or hair is laid inside. Hair is sometimes a horse’s tail, sometimes a human’s head, beard or mustache. It is possible to make long, fine ravens………..

“आकार का इतना अधिक महत्त्व नहीं होता है। व्हेल मछली का अस्तित्व खतरे में है जबकि चींटी एक सहज जीवन जी रही है।” बिल वाघन
“Size isn’t everything. The whale is endangered, while the ant continues to do just fine.” Bill Vaughan

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment