पत्रकारिता के प्रश्न : राजेन्द्र शंकर भट्ट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Patrakarita Ke Prashna : by Rajendra Shanker Bhatt Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

पत्रकारिता के प्रश्न : राजेन्द्र शंकर भट्ट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पत्रिका | Patrakarita Ke Prashna : by Rajendra Shanker Bhatt Hindi PDF Book - Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पत्रकारिता के प्रश्न / Patrakarita Ke Prashna
Author
Category, , ,
Language
Pages 214
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

पत्रकारिता के प्रश्न पुस्तक का कुछ अंश : पत्रकारिता के प्रश्न उठा कर भट्टजी ने देश की प्रेस को आईना दिखाने की कोशिश की है। दिक्कत यह है कि किसी को कोई आईना दिखा ही सकता है, उसमें अपनी शक्ल देखने पर किसी को कोई मजबूर नहीं कर सकता। अपने देश की प्रेस अपनी आत्म-छवि पर ऐसी मुग्ध है कि किसी आईने में अपना वास्तविक चेहरा देखना नहीं चाहती | या वह अपनी असलियत से………

Patrakarita Ke Prashna PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Patrakarita ke prashn utha kar bhatt ji ne desh ki press ko Aaina dikhane ki koshish kee hai. Dikkat yah hai ki kisi ko koi Aaina dikha hee sakata hai, usamen apani shakl dekhane par kisi ko koi Majboor nahin kar sakata. Apane desh ki press apani aatm-chhavi par aisee mugdh hai ki kisi aaine mein apana vastavik chehara dekhana nahin chahati. Ya vah Apani Asaliyat se…….
Short Passage of Patrakarita Ke Prashna Hindi PDF Book : By raising the questions of journalism, Bhattji has tried to show the mirror to the press of the country. The problem is that someone can show a mirror, no one can force anyone to see their face in it. The press of our country is so fascinated with its self-image that it does not want to see its real face in any mirror. Or is it real ……
“परिश्रम किस्मत की जननी है।” ‐ बेंजामिन फ्रैंकलिन
“Diligence is the mother of good luck.” ‐ Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment