फोनोग्राफ से स्टीरियो तक : वीरेन्द्र भटनागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Phonograph Se Stereo Tak : by Veerendra Bhatanagar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameफोनोग्राफ से स्टीरियो तक / Phonograph Se Stereo Tak
Author
Category, ,
Language
Pages 199
Quality Good
Size 6.3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कहा जाता है कि किसी राजा के राज्य में कोई व्यक्ति बेरोजगार न था। जिसे जो काम आता उसे उसके अनुसार रोजगार मिल जाता। लेकिन एक दिन उस राजा के दरबार में एक ऐसा व्यक्ति आया जिसे कुछ भी न आता था। राजा को उसके लिए कोई काम न सूझा तो सलाह के लिए मंत्री को बुलाया गया। मंत्री ने सुझाव दिया, “महाराज, इस…..

Pustak Ka Vivaran : Kaha jata hai ki kisi Raja ke rajy mein koi vyakti berojagar na tha. Jise jo kam aata use usake anusar Rojgar mil jata. Lekin ek din us Raja ke darbar mein ek aisa vyakti aaya jise kuchh bhi na aata tha. Raja ko usake liye koi kam na soojha to salah ke liye mantri ko bulaya gaya. Mantri ne sujhav diya, “Maharaj, is………

Description about eBook : It is said that no person was unemployed in a king’s kingdom. According to whichever work he gets, he would get employment. But one day a person came to the king’s court who knew nothing. If the king did not think of any work for him, the minister was called for advice. The minister suggested, “Maharaj, this ……

“मैं हिंसा पर आपत्ति उठाता हूं क्योंकि जब लगता है कि इसमें कोई भलाई है, तो ऐसी भलाई अस्थाई होती है; लेकिन इससे जो हानि होती है वह स्थायी होती है।” मोहनदास करमचंद गांधी (1869-1948)
“I object to violence because when it appears to do good, the good is only temporary; the evil it does is permanent.” Mohandas Karamchand Gandhi (1869-1948)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment