राखी की लाज : वृन्दावन लाल वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Rakhi Ki Laaj : by Vrindawan Lal Verma Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameराखी की लाज / Rakhi Ki Laaj
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 96
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

राखी की लाज का संछिप्त विवरण : (नाई का प्रस्थान) मेघराज पक्की सड़क पर आकर पुल की ओर जाता है। पुल के पास से बासी ऊंचाई पर दिखाई पड़ता है। मेघराज डंडे को बेगी के सिरे पर सुतली से लटका लेता है और अपना ‘मोहन बाजा’ बजाता है। बाजे के पेड़ो की झुरमुट से एक देहाती का प्रवेश। देहाती चेहरे पर…..

Rakhi Ki Laaj PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : (Nayi Ka Prasthan) Meghraj pakki sadak par Aakar pul ki or jata hai. Pul ke pas se Basi Unchayi par dikhayi padata hai. Meghraj dande ko begi ke sire par sutali se lataka leta hai aur apana mohan baja bajata hai. Baje ke Pedo ki Jhurmut se ek dehati ka pravesh. Dehati Chehare par……
Short Description of Rakhi Ki Laaj PDF Book : (Barber’s departure) Meghraj comes on the paved road and goes towards the bridge. From the side of the bridge, it is visible at a stale height. Meghraj hangs the stick on the end of the bagi with a twine and plays his ‘Mohan Baaja’. A rustic entrance from the clump of baja trees. On the rustic face……
“कल्पना के उपरांत उद्यम अवश्य किया जाना चाहिए। सीढ़ियों को देखते रहना ही पर्याप्त नहीं है – सीढ़ियों पर चढ़ना आवश्यक है।” ‐ वैन्स हैवनेर
“The vision must be followed by the venture. It is not enough to stare up the steps – we must step up the stairs.” ‐ Vance Havner

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment