रंगभूमि : प्रेमचंद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Rangbhumi : by Premchand Hindi PDF Book

रंगभूमि : प्रेमचंद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Rangbhumi : by Premchand Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रंगभूमि / Rangbhumi
Author
Category
Pages 573
Quality Good
Size 56.85 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : शहर अमीर के रहने और क्रय विक्रय का स्थान है। उसके बाहर की भूमि उनके मनोरंजन और विनोद की जगह है। उसके मध्य भाग मे उनके लड़कों की पाठशालाएँ आर उनके मुक्केबाज़ी के अखाड़े होते है, जहां न्याय के बहाने गरीबों का गला घोंटा जाता है। शहर के आस पास गरीबों की बस्तियाँ होती है। बनारस में पाँडेपुर ऐसी ही बस्ती है। यहाँ न शहरी दीपकों की ज्योति पहुंचती है, न शहरी छिड़काव के छींटे, न शहरी जल-श्रोत का प्रवाह। सड़क के किनारे छोटे-छोटे बनियों और हलवाइयों की दुकानें है। और उनके पीछे कई इक्केवाले, गाड़ीवान, ग्वाले और मजदूर रहते हैं ।……………..

Pustak ka Vivaran : Shahar ameer ke rahane aur kray vikray ka sthaan hai. Usake baahar kee bhoomi unake manoranjan aur vinod kee jagah hai. Usake madhy bhaag me unake ladakon kee paathashaalaen aar unake mukkebaazee ke akhaade hote hai, jahaan nyaay ke bahaane gareebon ka gala ghonta jaata hai. Shahar ke aas paas gareebon kee bastiyaan hotee hai. Banaaras mein paandepur aisee hee bastee hai. yahaan na shaharee deepakon kee jyoti pahunchatee hai, na shaharee chhidakaav ke chheente, na shaharee jal-shrot ka pravaah. Sadak ke kinaare chhote-chhote baniyon aur halavaiyon kee dukaanen hai. aur unake peechhe kaee ikkevaale, gaadeevaan, gvaale aur majadoor rahate hain …………….

Description of the book : The city is the place of residence and sale of the rich. The land outside him is his place of entertainment and humour. In the middle of it are their boys’ schools and their boxing arenas, where the poor are strangled on the pretext of justice. There are settlements of the poor around the city. Pandeypur is one such settlement in Banaras. Here neither the light of urban lamps reaches, nor the sprinkling of urban sprinkling, nor the flow of urban water-source. There are small banis and confectioners’ shops on the side of the road. And behind them many aces, cartmen, cowmen and laborers live.

“श्रेष्ठ व्यक्ति बोलने में संयमी होता है लेकिन अपने कार्यों में अग्रणी होता है।” ‐ कंफ्यूशियस
“The superior man is modest in his speech, but exceeds in his actions.” ‐ Confucius

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment