ऋग्वेदके बनानेवाले ऋषि : बाबू सूरजभानु जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – वेद | Rigvedke Bananewale Rishi : by Babu Surajbhanu Ji Hindi PDF Book – Ved

Book Nameऋग्वेद के बनाने वाले ऋषि / Rigvedke Bananewale Rishi
Author
Category,
Language
Pages 142
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

ऋग्वेद के बनाने वाले ऋषि का संछिप्त विवरण  : स्वामी दयानंद सरस्वती ने ऋग्वेदादि भाष्य भूमिका में लिखा है कि ईश्वर से ही वेद उत्पन्न हुए है | किसी मनुष्य से नहीं, ईश्वर ने ही सृष्टि की आदि में अग्नि, वायु, आदित्य, और अंगिरा इन चार मनुष्यों के द्वारा चार वेदों का प्रकाश किया है अर्थात एक एक मनुष्य के द्वारा एक एक वेद को प्रकट किया है | वेदों में सबमंत्र छन्दों में है……….

Rigvedke Bananewale Rishi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Swami dayanand sarasvati ne rgvedadi bhashy bhumika mein likha hai ki Ishvar se hi ved utpann hue hai. Kisi manushy se nahin, Ishvar ne hi srshti ki aadi mein agni, vaayu, aadity, aur angira in char manushyon ke dwara char vedon ka prakash kiya hai arthat ek ek manushy ke dwara ek ek ved ko prakat kiya hai. Vedon mein sab mantr chhandon mein hai………..
Short Description of Rigvedke Bananewale Rishi PDF Book : Swami Dayanand Saraswati has written in the Rigveda Bhashya, that Vedas have arisen from God. Not by any human being, God has lighted the four Vedas by means of four human beings, fire, air, aditya, and angira in the form of creation, that means one has revealed one Ved by one man. All the mantras in Vedas are in chants…………….
“हमेशा तर्क करने वाले का दिमाग सिर्फ धार वाले चाकू की तरह है जो प्रयोग करने वाले के हाथ से ही खून निकाल देता है।” – रवीन्द्रनाथ टैगोर
“A mind all logic is like a knife all blade. It makes the hand bleed that uses it.” – Rabindranath Tagore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment